Ketu:Importance of Ketu Planet in Astrology केतु: ज्योतिष में केतु ग्रह का महत्व

Ketu:Importance of Ketu Planet in Astrology

Shadowy as Ketu Rahu is a vocal half-way planet.

Ketu is the best-

  1. Intelligence,
  2. The powers of discrimination, and
  3. Knowledge – spiritual knowledge,
  4. Self knowledge

The importance

  1. Ketu brings prosperity to the devotee’s family, removes the effect of snake and is rich in the health, wealth, livestock and prosperity of someone’s body by the disease caused by toxic substance.
  2. It gives mental abilities to its native and makes him the owner of the treatment of medical arts, natural remedies, herbs, spices, food items, treatments, evil spirits, ghosts and astral powers.
  3. Ketu is neither woman nor masculine.
  4. It is night, animalist, obsessive, compulsive and airy, old and powerful in fainting in behavior.
  5. It is related to a gray-brown color, it is the rule of number 7 in Indian numerology.

    Ketu:Importance of Ketu Planet in Astrology

    Ketu:Importance of Ketu Planet in Astrology

 

Transit of Ketu

The effect of Ketu’s transit through twelve houses counted from the radical moon is as follows:

  • Loss, sick health or illness
  • loss of money
  • happiness, profit, growth
  • Both fear, physical or mental problems
  • Sadness, lack of money
  • happiness, profit of money
  • Evil conditions, disease
  • Threatened, threatened
  • Sinful work, submissive
  • Fear, sadness
  • Good name and fame, profit of money
  • Physical illnesses or mental distress, hostility

High signal [strong]: scorpio

KETU is high in Scorpio.

When it is strong, it shows-

  1. Sudden explosion of energy,
  2. Discretion,
  3. Freedom,
  4. Universality,
  5. Idealism,
  6. Intuition,
  7. mental capacity,
  8. Compassion,

I Spirituality,

  1. Self sacrifice and

Kashmir. subtleness

Debitration signs [weak]: Taurus

KETU is weak in Taurus.

When it is weak, then it causes –

  1. wound,
  2. Injuries,
  3. Diseases in the spine and nervous system,
  4. Consumed,
  5. Surgery,
  6. Ulcer,
  7. swelling,
  8. fever,

I Intestinal diseases,

  1. Mental deviation,

Kashmir. Low blood pressure,

  1. Bad habits

Meter Skin disease

Good

A planet is considered to be advantageous when it provides very positive effects.

There is no KETU benefit in any indication.

Malignant

A planet is considered to be hell when it offers very negative effects.

KETU is hell in all signs.

केतु: ज्योतिष में केतु ग्रह का महत्व

केतु राहु के रूप में छायादार एक मुखर आधा ग्रह है।

केतु सबसे अच्छा है-

ए। बुद्धिमत्ता,

ख। भेदभाव की शक्तियां, और

सी। ज्ञान – आध्यात्मिक ज्ञान,

घ। स्वयं का ज्ञान

महत्त्व

  1. केतु भक्त के परिवार को समृद्धि लाता है सांप के प्रभाव को दूर करता है और किसी के शरीर में जहरीले पदार्थ से उत्पन्न होने वाली बीमारी से वह स्वास्थ्य, धन, मवेशी और समृद्धि के आसपास समृद्ध होता है।
  2. यह अपने मूल निवासी को मानसिक क्षमताओं देता है और उन्हें चिकित्सा कला, प्राकृतिक उपचार, जड़ी बूटियों, मसालों, खाद्य पदार्थों, उपचार, दुष्ट आत्माओं, भूत और सूक्ष्म शक्तियों के व्यक्तियों के उपचार के स्वामी बनाता है।
  3. केतु न तो स्त्री और न ही मर्दाना है।
  4. यह रात्रि, पशुवादी, जुनूनी, बाध्यकारी और व्यवहार में बेहोशी में हवा-वर्चस्व वाला, वृद्ध और शक्तिशाली है।
  5. यह एक धुंधले-भूरे रंग के रंग से जुड़ा हुआ है, यह भारतीय अंक विज्ञान में संख्या 7 का नियम है।

 

केतु का पारगमन

 

कट्टरपंथी चंद्रमा से गिने गए बारह घरों के माध्यम से केतु के पारगमन का प्रभाव निम्नानुसार है:

 

  • नुकसान, बीमार स्वास्थ्य या बीमारी
  • पैसे का नुकसान
  • खुशी, लाभ, वृद्धि
  • डर, शारीरिक या मानसिक दोनों परेशानी
  • दुख, पैसे की कमी
  • खुशी, पैसे का लाभ
  • बुराई की स्थिति, बीमारी
  • नुकसान, परेशानी की धमकी दी
  • पापपूर्ण कार्य, विनम्रता
  • डर, दुख
  • अच्छा नाम और प्रसिद्धि, पैसे का लाभ
  • शारीरिक बीमारियों या मानसिक संकट, शत्रुता

 

ऊंचे संकेत [मजबूत]: वृश्चिक

 

वृश्चिक में केईटीयू ऊंचा है।

जब यह मजबूत होता है तो यह दर्शाता है-

ए। अचानक ऊर्जा का विस्फोट,

ख। विवेक,

सी। मुक्ति,

घ। सार्वभौमिकता,

ई। आदर्शवाद,

च। सहज बोध,

जी। मानसिक क्षमता,

एच। करुणा,

मैं। आध्यात्मिकता,

ञ। आत्म बलिदान और

कश्मीर। subtleness।

 

डेबिलिटेशन साइन्स [कमजोर]: वृषभ

 

वृषभ में केईटीयू कमजोर है।

जब यह कमजोर होता है तो इसका कारण बनता है –

ए। घाव,

ख। चोटों,

सी। रीढ़ और तंत्रिका तंत्र में रोग,

घ। खपत,

ई। शल्य चिकित्सा,

च। अल्सर,

जी। सूजन,

एच। बुखार,

मैं। आंतों की बीमारियां,

ञ। मानसिक विचलन,

कश्मीर। कम रक्त दबाव,

एल। बुरी आदतें,

मीटर। चर्म रोग

शुभ

 

एक ग्रह को लाभ माना जाता है जब यह बहुत सकारात्मक प्रभाव प्रदान करता है।

किसी भी संकेत में केईटीयू लाभ नहीं है।

 

हानिकर

 

एक ग्रह को नरक माना जाता है जब यह बहुत नकारात्मक प्रभाव प्रदान करता है।

केईटीयू सभी संकेतों में नरक है।

Harvilas Meena

My Self Harvilas Meena, I am a Part Time Blogger and it is my passion that I will provide you the Online Money Making Tips and Tricks, Internet and Technical Articles, Product Reviews,Social Media like Facebook, Twitter, Tutorials,Reading Material,Job Alerts, Guide and Important information about Exams like IAS, RAS, SSC,Bank, Teaching of Private and Public Sector.

You may also like...

Leave a Reply